वायरस

अष्ठांग आयुर्वेद का एक अंग है- भूत-चिकित्सा जिसमें भूत अर्थात् विषाणु जनित रोगों की चिकित्सा का विस्तार पूर्वक वर्णन मिलता है। भूत अर्थात् विषाणु को आज का चिकित्सा विज्ञान (virus) के नाम से जानता है। विषाणु जनित रोग भी अनेक हैं, जिसकी औषधिय चिकित्सा अधुनिक चिकित्सा शास्त्रीयों के पास लगभग नहीं है। परंतु वैदिक व पौराणिक काल में यह चिकित्सा आयुर्वेदिक औषधियों तथा मंत्रों के द्वारा सहज ही उपलब्ध थी।

Medical Astrology, Ayurveda & Astrology

इस प्रकार के रोगों को जटिल रोगों की श्रेणी में रखा गया है, आज वायरस जनित रोगों के रूप में जिन रोगों को पहचाना जा चुका है उनमें- लीवर के कुछ रोग जैसे- 1. हैपेटाईटस ए, बी, सी, इत्यादि, 2. चेचक या चेचक जैसे रोग- पोक्स, चिकन-पोक्स, चिकन-गुनिया इत्यादि, 3. गलगण्ड, 4. फलू श्रेणी के कुछ रोग जैसे स्वाईन फलू इत्यादि, 5. फाईलेरिया इत्यादि प्रमुख है। और अब एक नया रोग ईबोला सामने आया है।

इस के अतिरिक्त भी अनेक रोग हैं जो कभी-कभी अनुकूल वातावरण मिलने पर तुरंत प्रकट होते हैं। इनमें से अनेक रोग तो ऐसे हैं जो सैकडों वर्षो के बाद तब प्रकट होते हैं जब उनके विषाणुओं को अनुकूल मौसम तथा परिस्थिति मिलती है। इसी लिये ऐसे रोग जब-जब प्रकट होते हैं तब-तब आधुनिक चिकित्सा शास्त्री हैरान व परेशान हो जाते हैं। क्योकि उनके लिये सामान्य रोगों से हटकर यह बिलकुल नये रोग होते हैं। जैसा की गत कुछ वर्षो में नये-नये रोग प्रकट होते दिखाई देते रहे हैं।

आज चिकित्सा विज्ञान ने बेशक अनेक रोगों की चिकित्सा में विशेषकर ऐसे रोग जिनमें शल्यक्रिया की आवश्यकता होती है, के लिये काबिले-तारीफ प्रगति की है। परंतु वहीं यह अधुनिक चिकित्सा विज्ञान अनेक ऐसे विषाणु जनित रोगों से अपरिचित भी है, जिनकी चिकित्सा का वर्णन वेद-पुराणों एवं आयुर्वेद तथा मंत्रशास्त्रों में मिलता है। परंतु इसमें भी कठिनाई यह है कि- यह विवरण तथा उपचार पद्धितियाँ वेदों में, पुराणों में, आयुर्वेदिक चिकित्सा शास्त्र में, तथा मंत्र-तंत्र के प्राचीन ग्रन्थों में बिखरी हुई हैं। आज आवश्यकता है, इन्हें पहचान कर संकलित करने की और जठिल रोगों की चिकित्सा में इनका प्रयोग करने की। वैदिक तथा पौराणिक काल में अनेक ऐसे विषाणु जनित रोगों की पहचान की गई थी। इन्हीं विषाणु जनित रोगों में से कुछ वह रोग भी हैं जिन्हें आज का चिकित्सा विज्ञान मानसिक रोग मानता है। परंतु स्याने या ओझा तथा आयुर्वेद भी इन रोगों की पहचान भूतरोग (virus) से होने वाले रोगों के रूप में न केवल करता है, अपितु इनकी सफल चिकित्सा भी सुझाता है, यह बात अलग है कि आज उन रोगों की चिकित्सा करने वाले घीरे-धीरे लुप्त हो गये हैं। इनके लुप्त होने का एक कारण यह भी है कि इस चिकित्सा पद्धति को जानने वालों को जादू-टोना कर दूसरों को हानि पहुचाने वाला तांत्रिक माना जाता था, बेशक इनमें से कुछ स्याने इस प्रकार की दुष्प्रवृति वाले रहे होंगे। आज से 50-100 वर्ष पूर्व तक भी इन पद्धतियों को जानने वाले अनेक विद्वान उपलब्ध थे। जिन्हें आम लोग अपनी भाषा में स्याना या ओझा कहते थे। यह स्याने मंत्रो के साथ-साथ औषधियों का समुचित ज्ञान भी रखते थे। आज भी इन में से थोड़ी बहुत विद्या जानने वाले इन का सफल प्रयोग ऐसे ही विषाणु जनित रोगों पर किया करते हैं। जैसे- पीलिया रोग का झाड़ा करने वाले स्याने, गलगण्ड तथा फाईलेरिया की मंत्र चिकित्सा करने वाले ओझा और फलू की चिकित्सा करने वाले मांत्रिक।

अनेक मानसिक रोग हैं, जिन्हें आयुर्वेद शास्त्र भूत-चिकित्सा के नाम से पहचानता है, इनमें भी अधिकांश मानसिक रोगों की शिकार महिलायें ही होती हैं, यह वह मातायें बहने होती हैं, जो मासिक के दिनों में सफाई का विशेष ध्यान नहीं रखती हैं। इस प्रकार के भूतों (विषाणुओं) के अनेक नाम भी आयुर्वेद शास्त्र में वर्णित हैं। इसी प्रकार नवजात शिशुओं को होने वाले कुछ विषाणु जनित रोगों का वर्णन भी इन शास्त्रों में वर्णित हैं। जिनके बचाव तथा उपचार का वर्णन भी सविस्तार मिलता है।

भूत-चिकित्सा हेतु चिकित्सा पद्धतियां?- विषाणु जनित रोगों की चिकित्सा करने वाले विशेषज्ञ जानते थे की किस प्रकार के विषाणु से होने वाले रोग की क्या पहचान है, तथा उस जठिल रोग की चिकित्सा में किस प्रकार की वनौषधि तथा किस प्रकार के मंत्रोपचार और किस तिथि, वार, नक्षत्र, योग व करण से बनने वाले विशेष योग (मुहूर्त) में आरम्भ करनी है, अथवा किस योग मुहूर्त में इनमें से किस प्रकार के रोग की औषधि तैयार की जानी चाहिये। इस प्रकार भूत-चिकित्सा में आयुर्वेद तथा मंत्रशास्त्र के साथ-साथ ज्योतिषीय योगदान भी बराबर का था। वैसे तो इन रोगों के अनेक ज्योतिषीय योग शास्त्रों में वर्णित हैं परंतु अधिकांश विषाणु जनित रोगों के प्रमुख कारक ग्रह शनि-राहु का विशेष योग होता है। इन कष्टसाध्य रोगों का विचार कुण्डली में लग्न, षष्ठ, अष्टम दोनों से, अष्टमात् अष्टम से अर्थात् तृतीय भाव, षष्ठात् षष्ठ अर्थात् एकादश व व्यय स्थान से किया जाता है। इसी प्रकार इन रोगों का उपाय-दवाई निर्माण तथा भक्षण का मुर्हूत चिंतामणि के मतानुसार इस प्रकार है –

भेषऽयं सल्लघुमृदुयरे मूलभे द्वयंगलाने।।
शुक्रेन्द्विज्यें विदि च दिवसे चापि तेषां रवेश्च
शुद्धेरिःफधुनमृतिगृहे सतिथौ नो जनर्भे।।

लघु संज्ञक- हस्त, अश्विनी, पुष्य, मृदु-मृगशीर्ष रेवती, चित्रा, अनुराधा, चरसंक्षक, स्वाती, पुनर्वसु, श्रवण, धनिष्ठा, शतभिषा और मूल नक्षत्र में तथा द्विस्वभाव लग्न में शुक्र, सोम, गुरू, बुध, और रविवार के दिन में लग्न से सातवें, आठवें व बारहवें भाव शुद्ध हों, जन्म नक्षत्र न हो तथा शुभ तिथि में औषधि (दवाई) का सेवन अथवा निमार्ण करना श्रेष्ठ है। मेरे विचार से आज के समय में सभी विषाणु जनित तथा अन्य रोगों के उपाय में मंत्र सिद्ध कवच (ताबीज) तथा ग्रहों के रत्नादि का धारण करना भी कारगर उपाय हैं।

किस प्रकार की जाती थी इन रोगों की चिकित्सा?-

1. विशेष मंत्रों को जिस साधक ने सिद्ध किया हो ऐसे साधक को अधिकार प्राप्त होता है कि वे उस मंत्र का प्रयोग जन कल्याण के लिये कर सकता है, वह सिद्ध किसी मोरपंखे, झाडू या चक्कू से रोगी पर मंत्र का झाड़ा करता है जिससे विषाणु जनित रोग शीघ्र शांत होते हैं।

2. कम-से-कम 12 वर्ष तक गायत्री साधना करने वाले साधक गायत्री मंत्र से अभिमंत्रित जल (मंजे हुये शुद्ध बर्तन में शुद्ध कूपजल या गंगाजल डालकर 11 बार गायत्री मंत्र बोलते हुये उसमें दाहिने हाथ की तर्जनी अंगुली फिराकर रोगी तथा रोगी के कमरे में सर्वत्र छिड़क दें। थोड़ा-थोड़ा, प्रातः संध्या दोनों समय उस व्यक्ति को पिला दें और उसके बिछौनों पर छिड़क दें। उसके कान में गायत्री मंत्र सुनायें। गायत्री मंत्र से अभिमंत्रित गंगाजल नहाते समय उसके मस्तक पर थोड़ा सा डाल दें।

3. श्रीमद्भागवत गीता का यह श्लोक उसको बार-बार सुनायें और कई कागजों पर लिखकर दीवाल पर टांग दें:-

स्थाने हृषीकेश तब प्रकीर्त्या जगत्प्रहृष्यनुरज्यते च।
रक्षांसि भीतानि दिशो प्रेवन्ति सर्वे नमस्यन्ति च सिद्धसंधा।। (11।36)

इसके द्वारा (उपर्युक्त रीति से) अभिमंत्रित जल भी रोगी को पिलाना चाहिये। किसी मांत्रिक से सिद्ध यंत्र मंगलवार के दिन भोजपत्र पर लाल चंदन से लिखकर (पुरूष हो तो दाहिने हाथ में, स्त्री हो तो बायें हाथ में) चांदी या तांबे के ताबीज में डालकर, धूप देकर बांध दें, और प्रतिदिन गायत्री मंत्र से अभिमंत्रित जल उस पर छिड़कते और उसे पिलाते रहें।

4. ऐसे और भी बहुत से मंत्र-यंत्र हैं, जो प्रेत-पीड़ा निवारण के सफल साधन हैं। परन्तु इनके जानकार बहुत कम मिलते हैं, ओर आज कल तो अधिकांश स्थानों पर ठगी भी चलती है। और भी अनेक यंत्र-मंत्र तथा शास्त्रीय उपाय-उपचार हैं, जिनका वर्णन इस छोटे से लेख में करना संभव नहीं है, अतः मंत्र-तंत्र-यंत्र के प्रयोग किसी विश्वास वाले साधक से ही लेने चाहियें जो इस विद्या पर अधिकार रखता हो। जो पाठक श्रद्धा रखते हों वे इस गायत्री सेवक डा. आर. बी. धवन से भी (झाड़ा) मंत्रोपचार के लिये सम्पर्क कर सकते हैं। आयुर्वेद में भूतबाधा की चिकित्सा का उल्लेख विशेष धूपों तथा अर्ध्यों के रूप में भी है, जिनसे यह पीड़ा शीघ्र मिट जाती है। उनका उपयोग भी हानिकर नहीं है, परन्तु उसमें भी जानकार विद्वान की जरूरत तो है ही। ऐसे कई देवस्थान भी हैं, जहाँ जाने से बाधायें दूर होती हैं। महामृत्युंजय मंत्र का जप, श्रीहनुमान चालीसा तथा बजरंग बाण के पाठ से भी भूतबाधा दूर होती हैं।

लेखक Dr.R.B.Dhawan

सुश्रुतसंहिता

शल्य चिकित्सा (सर्जरी) के पितामह और सुश्रुतसंहिता के प्रणेता आचार्य सुश्रुत का जन्म छठी शताब्दी ईसा पूर्व काशी में हुआ था। सुश्रुत का जन्म विश्वामित्र के वंश में हुआ था। इन्होंने धन्वन्तरि से शिक्षा प्राप्त की थी।

Dr.R.B.Dhawan (top best astrologer in delhi)

सुश्रुतसंहिता को भारतीय चिकित्सा पद्धति में विशेष स्थान प्राप्त है। इसमें शल्य चिकित्सा के विभिन्न पहलुओं को विस्तार से समझाया गया है। शल्य क्रिया के लिए सुश्रुत 125 तरह के उपकरणों का प्रयोग करते थे। ये उपकरण शल्य क्रिया की जटिलता को देखते हुए खोजे गए थे। इन उपकरणों में विशेष प्रकार के चाकू, सुइयां, चिमटियां आदि हैं। सुश्रुत ने 300 प्रकार की ऑपरेशन प्रक्रियाओं की खोज की। आठवीं शताब्दी में सुश्रुतसंहिता का अरबी अनुवाद किताब-इ-सुश्रुत के रूप में हुआ। सुश्रुत ने कॉस्मेटिक सर्जरी में विशेष निपुणता हासिल कर ली थी।

एक बार आधी रात के समय सुश्रुत को दरवाजे पर दस्तक सुनाई दी। उन्होंने दीपक हाथ में लिया और दरवाजा खोला। दरवाजा खोलते ही उनकी नजर एक व्यक्ति पर पड़ी। उस व्यक्ति की आंखों से अश्रु-धारा बह रही थी और नाक कटी हुई थी। उसकी नाक से तीव्र रक्त-स्राव हो रहा था। व्यक्ति ने आचार्य सुश्रुत से सहायता के लिए विनती की। सुश्रुत ने उसे अन्दर आने के लिए कहा। उन्होंने उसे शांत रहने को कहा और दिलासा दिया कि सब ठीक हो जायेगा। वे अजनबी व्यक्ति को एक साफ और स्वच्छ कमरे में ले गए। कमरे की दीवार पर शल्य क्रिया के लिए आवश्यक उपकरण टंगे थे। उन्होंने अजनबी के चेहरे को औषधीय रस से धोया और उसे एक आसन पर बैठाया। उसको एक गिलास में शोमरस भरकर सेवन करने को कहा और स्वयं शल्य क्रिया की तैयारी में लग गए। उन्होंने एक पत्ते द्वारा जख्मी व्यक्ति की नाक का नाप लिया और दीवार से एक चाकू व चिमटी उतारी। चाकू और चिमटी की मदद से व्यक्ति के गाल से एक मांस का टुकड़ा काटकर उसे उसकी नाक पर प्रत्यारोपित कर दिया। इस क्रिया में व्यक्ति को हुए दर्द का शौमरस ने महसूस नहीं होने दिया। इसके बाद उन्होंने नाक पर टांके लगाकर औषधियों का लेप कर दिया। व्यक्ति को नियमित रूप से औषाधियां लेने का निर्देश देकर सुश्रुत ने उसे घर जाने के लिए कहा।

सुश्रुत नेत्र शल्य चिकित्सा भी करते थे। सुश्रुतसंहिता में मोतियाबिंद के ऑपरेशन करने की विधि को विस्तार से बताया है। उन्हें शल्य क्रिया द्वारा प्रसव कराने का भी ज्ञान था। सुश्रुत को टूटी हुई हड्डी का पता लगाने और उनको जोड़ने में विशेषज्ञता प्राप्त थी। शल्य क्रिया के दौरान होने वाले दर्द को कम करने के लिए वे मद्यपान या विशेष औषधियां देते थे। सुश्रुत श्रेष्ठ शल्य चिकित्सक होने के साथ-साथ श्रेष्ठ शिक्षक भी थे।
उन्होंने अपने शिष्यों को शल्य चिकित्सा के सिद्धांत बताये और शल्य क्रिया का अभ्यास कराया। प्रारंभिक अवस्था में शल्य क्रिया के अभ्यास के लिए फलों, सब्जियों और मोम के पुतलों का उपयोग करते थे। मानव शरीर की अंदरूनी रचना को समझाने के लिए सुश्रुत शव के ऊपर शल्य क्रिया करके अपने शिष्यों को समझाते थे। सुश्रुत ने शल्य चिकित्सा में अद्भुत कौशल अर्जित किया तथा इसका ज्ञान अन्य लोगों को कराया। उन्होंने शल्य चिकित्सा के साथ-साथ आयुर्वेद के अन्य पक्षों जैसे शरीर संरचना, काया-चिकित्सा, बाल रोग, स्त्री रोग, मनोरोग आदि की जानकारी भी दी। कई लोग प्लास्टिक सर्जरी को अपेक्षाकृत एक नई विधा के रूप में मानते हैं। प्लास्टिक सर्जरी की उत्पत्ति की जड़ें भारत की सिंधु नदी सभ्यता से 4000 से अधिक साल से जुड़ी हैं। इस सभ्यता से जुड़े श्लोकों को 3000 और 1000 ई.पू. के बीच संस्कृत भाषा में वेदों के रूप में संकलित किया गया है, जो हिन्दू धर्म की सबसे पुरानी पवित्र पुस्तकों में में से हैं। इस युग को भारतीय इतिहास में वैदिक काल के रूप में जाना जाता है, जिस अवधि के दौरान चारों वेदों अर्थात् ऋग्वेद, सामवेद, यजुर्वेद और अथर्ववेद को संकलित किया गया। चारों वेद श्लोक, छंद, मंत्र के रूप में संस्कृत भाषा में संकलित किए गए हैं और सुश्रुत संहिता को अथर्ववेद का एक हिस्सा माना जाता है।

सुश्रुत संहिता, जो भारतीय चिकित्सा में सर्जरी की प्राचीन परंपरा का वर्णन करता है, उसे भारतीय चिकित्सा साहित्य के सबसे शानदार रत्नों में से एक के रूप में माना जाता है। इस ग्रंथ में महान प्राचीन सर्जन सुश्रुत की शिक्षाओं और अभ्यास का विस्तृत विवरण है, जो आज भी महत्वपूर्ण व प्रासंगिक शल्य चिकित्सा ज्ञान है। प्लास्टिक सर्जरी का मतलब है- शरीर के किसी हिस्से की रचना ठीक करना। प्लास्टिक सर्जरी में प्लास्टिक का उपयोग नहीं होता है। सर्जरी के पहले जुड़ा प्लास्टिक ग्रीक शब्द प्लास्टिको से आया है। ग्रीक में प्लास्टिको का अर्थ होता है बनाना, रोपना या तैयार करना। प्लास्टिक सर्जरी में सर्जन शरीर के किसी हिस्से के उत्तकों को लेकर दूसरे हिस्से में जोड़ता है। भारत में सुश्रुत को पहला सर्जन माना जाता है। आज से करीब 2500 साल पहले युद्ध या प्राकृतिक विपदाओं में जिनकी नाक खराब हो जाती थी, आचार्य सुश्रुत उन्हें ठीक करने का काम करते थे।

आयुर्वेद और मोटापा

मानव समुदाय के सामने मोटापा आज एक विचित्र महामारी के रूप में उभरा है। यह वैयक्तिक ही नहीं, वरन् चिकित्सा जगत एवं सभ्य समाज के लिये एक गंभीर समस्या बनता जा रहा है। खान-पान के तौर-तरीके, रहन-सहन के ढंग, आरामतलबी आदि शरीर में अतिरिक्त चर्बी बढ़ाने के प्रमुख कारण हैं। कभी यह रोग मध्य वर्ग के नर-नारियों में ही यदा-कदा देखा जाता था, लेकिन आज युवा पीढ़ी के साथ ही बच्चे भी थुलथुलेपन के शिकार होते जा रहे हैं। आँकड़े बताते हैं कि इन दिनों विश्व भर में तीस करोड़ से अधिक लोग मोटापे या स्थूलता से त्रस्त हैं। यह एक ऐसा महारोग है, जो शरीर को बेडौल व थुलथुला तो बनाता है, साथ ही इसके कारण उच्च रक्तचाप, डायबिटीज, हृदयरोग, अनिद्रा, दमा, हड्डियों की बीमारी, हाॅर्मोन असंतुलन, शारीरिक अपंगता जैसी कितनी ही बीमारियाँ पैदा होती चली जा रही हैं। इसके कारण अधिकांश व्यक्ति असमय ही काल-कवलित होते देखे जाते हैं।

आयुर्वेद शास्त्रों में मोटापे को मेदरोग या स्थौल्य रोग (स्थूलता) कहते हैं। चरक संहिता, सूत्रस्थानम् 21/9 के अनुसार
‘‘जिस रोग में मेद और माँस धातु की अतिवृद्धि होकर नितंब, उदर एवं वक्ष प्रदेश मोटे हो जाते हैं, और लटक जाते हैं तथा चलने-फिरने पर हिलते-डुलते रहते हैं, अंग-प्रत्यंगों में मेद या वसा-संचय के कारण उनकी वृद्धि समुचित रूप से नहीं होती है, तथा कार्यक्षमता में कमी आ जाती है, ऐसे व्यक्ति को अतिस्थूल या मोटा व्यक्ति कहते हैं। खान-पान में असंयम एवं अनियमितता के कारण शरीर में जब अनावश्यक रूप से अत्याधिक मात्रा में मेद या वसा जमा हो जाती है, तब व्यक्ति मोटा हो जाता है।’’
जब हम रोग आवश्यकता से अधिक मात्रा में एवं बार-बार उच्च कैलोरियुक्त आहार ग्रहण करते हैं, जिसमें ग्लूकोज या कार्बोहाइड्रेट तथा चिकनाई युक्त पदार्थ सम्मिलित हैं, तो यह अतिरिक्त चर्बी त्वचा एवं शरीर के अन्य अंग-अवयवों के अंदरूनी भाग, पेट और माँसपेशियों के बीच में जमा होती जाती हैं, और हमारा शरीर मोटा और बेडौल बन जाता है। इसे ही मोटापा या मेद या स्थौल्य कहते हैं। आधुनिक चिकित्सा विज्ञानी इसे ही ओबेसिटी कहते हैं। यह लैटिन शब्द ओबेसस से बना है, जिसका अर्थ है-अधिक खाना। अपने शब्दार्थ में ही यह बीमारी इस रहस्य को समाहित किये हुये है, कि जरूरत से ज्यादा खाने से मोटापा बढ़ता है। चिकित्सा विज्ञान की भाषा में यह वह अवस्था है, जिसमें शरीर में अत्याधिक वसा का संचय हो जाता है।

आधुनिक चिकित्सा शास्त्र के अनुसार स्थूलता या मोटापा उसे कहते हैं, जिसमें आयु एवं ऊँचाई के हिसाब से शरीर का जितना भार होना चाहिये, उससे दस प्रतिशत अथवा उससे अधिक भार हो। वस्तुतः मोटापे की शुरूआत पेट से होती है, क्योंकि मेद सभी प्राणियों के पेट और अस्थि में रहता हैं। मेद वृद्धि में सबसे पहले तोंद बढ़ती है, तत्पश्चात कूल्हे, गर्दन, कपोल, बाँहें, जंघा आदि में वसा की मोटी परत जमा होती जाती है, और मनुष्य को स्थूल एवं बेडौल बना देती है। आयुर्वेद शास्त्र के अनुसार मेद या चर्बी बढ़ने के कारण सब धातुओं के मार्ग बंद हो जाते हैं, जिससे शरीर स्थित दूसरी धातुओं – अस्थि, मज्जा, वीर्य आदि का पोषण नहीं हो पाता, केवल मेद या चर्बी ही बढ़ती रहती है। इसके बढ़ने से व्यक्ति सभी कार्यों को करने में अशक्त हो जाता है।

मोटापा मनुष्य के स्वस्थ जीवन के लिये अभिशाप है। आयुर्वेद शास्त्रों में जिन आठ प्रकार के शरीर वाले व्यक्तियों को निंदनीय माना गया है, उनमें अति कृशकाय एवं अति स्थूल व्यक्तियों की गणना प्रमुख रूप से की गई है। चरक संहिता, सूत्र स्थानम् – 21/1-2 में कहा गया है – तत्रातिस्थूल कृशयोर्भूयएवापरे निंदितविशेषा भवंति। अर्थात् इन आठ प्रकारों में अधिक मोटा एवं अधिक दुबला-कृशकाय व्यक्ति विशेष निंदा के पात्र हैं। इतने पर भी तुलनात्मक दृष्टि से इन दोनों में कृशकाय व्यक्ति को फिर भी अच्छा मानते हुये इसी ग्रंथ में आगे कहा गया है –

स्थौल्यकाश्र्ये वरं काश्र्ये समोपकरणौ हितौ।
यद्युभौ व्याधिरागच्छेत्स्थूलमेवातिपीड्येत्।।

अर्थात- अधिक मोटे और अधिक कृशकाय व्यक्तियों में मोटापे अपेक्षा कृशता-दुबलापन फिर भी अच्छा है, क्योंकि दोनों के उपकरण समान होने पर भी स्थूलकाय मनुष्य को रोगग्रस्त होने पर अधिक कष्ट सहन करना पड़ता हैं, मोटे व्यक्तियों की जीवनावधि भी घट जाती है। जन समुदाय में सम्मान की दृष्टि से भी वे तुलनात्मक दृष्टि से पिछड़े ही माने जाते हैं। सुश्रुत संहिता में उल्लेख है – कृशः स्थूलात् पूजितः। अर्थात स्थूल की अपेक्षा दुबला-पतला आदमी अधिक सम्मान के योग्य है। वस्तुतः मनुष्य अपने उत्तम स्वास्थ्य, प्रबल पराक्रम, प्रखर प्रतिभा एवं उज्जवल चरित्र के कारण समाज में सम्माननीय स्थान पाता है। केवल मोटेपन पर भरोसा नहीं किया जा सकता। आजकल मोटी लड़कियों को विवाह में भी परेशानी आ रही है।

मोटापे की अकारण ही निंदा नहीं की गई है। स्वास्थ्य का सर्वनाश करने में मोटापा सबसे प्रमुख कारण है। इसके कारण अधिकांश व्यक्तियों को दिल का रोग, उच्च रक्तचाप, डायबिटीज, पेट व साँस की अनेक बीमारियाँ धर दबोचती हैं। शरीर स्थूल व थुलथुल हो जाने से अधिकतर व्यक्ति आत्महीनता का शिकार बन जाते हैं। वैज्ञानिक परीक्षण बताते हैं कि मोटे एवं तोंदू व्यक्ति में उदर एवं पाचन सम्बंधी गड़बड़ी के साथ ही उसके रक्त में अच्छे कोलेस्ट्राॅल (एच.डी.एल.) की मात्रा कम व बुरे कोलेस्ट्राॅल की मात्रा बढ़ी हुई होती है। बढ़ी हुई यही खराब कोलेस्ट्राॅल (एल.डी.एल.) हाई ब्लड प्रेशर, हार्ट अटैक एवं ब्रेन स्ट्रोक आदि का कारण बनती है। इसके अतिरिक्त इंसुलिन का स्त्राव कम होने से डायबिटीज का खतरा भी बना रहता है। जिन व्यक्तियों में वसा की मोटी परत जमने के कारण शरीर भारी होता है, उन्हें प्रायः कब्ज की शिकायत, गैस, पीठ का दर्द, छोटी साँस, खर्राटे, स्लीप एप्रिया (श्वास-प्रश्वास में रूकावट) आदि रोग होने की संभावना अधिक रहती है। लीवर एवं किडनी भी ऐसे व्यक्तियों में प्रायः ठीक ढंग से काम नहीं करते। अति स्थूलता से शरीर की मेटाबाॅलिक प्रक्रिया दुष्प्रभावित होती है, जिसके कारण प्रजनन हाॅर्मोन में असंतुलन उत्पन्न होता है, और व्यक्ति, जोड़ों का दर्द, अर्थराइटिस, सायटिका, पक्षाक्षात, रीढ़ का दर्द, हार्निया, ओस्टियोपोरोसिस, वेरिकोस वेन्स, रक्त वाहिनियों में रक्त संचरण में बाधा, पथरी आदि बीमारियाँ उत्पन्न होती हैं।

यों तो मोटापे की सरल पहचान यह है कि यदि व्यक्ति की तोंद वक्षस्थल से ज्यादा उभरी हुई है, तो माना जाना चाहिये कि हम स्थूलता की ओर बढ़ रहे हैं। गर्भवती महिलायें इसकी अपवाद हैं। उदरवृद्धि के अतिरिक्त शिलिलता, गुरूता, स्वेदाधिक्य, क्षुधाधिक्य, अधिक प्यास, निद्राधिक्य, जड़ता, पीड़ा मुखमाधुर्य, मुख-ताजु-कंठ शोथ, अनुत्साह, आलस्य, तंद्रा एवं शरीर से दुर्गंध आना आदि लक्षण इसमें धीरे-धीरे प्रकट होने लगते हैं। शरीर का वजन अधिक बढ़ जाने से कूल्हे, घुटनों एवं टखनों आदि पर सर्वाधिक भार पड़ता है, जिससे जोड़ वाले इन स्थानों पर दर्द शुरू हो जाता है। अति स्थूलता के कारण व्यक्ति अपनी कार्यक्षमता, सक्रियता और कई बार तो अपना आत्मविश्वास तक खो बैठता है। स्थूलता वृद्धावस्था के शीघ्र आमंत्रण का कारण बनती है। स्थूलता या मोटापा जैसे जीवन शैली रोगों के बढ़ने के कई कारण होते हैं। चरक संहिता, सूत्रस्थानम – 21/3 के अनुसार अधिक तृप्तिकारण, भारी, मीठे, शीतल, चिकनाईयुक्त पदार्थों का सेवन करने से, व्यायाम या परिश्रम न करने से, दिन में सोने से (विशेषकर दोपहर में भोजन करने के तुरंत बाद) तथा आनुवंशिक कारणों से व्यक्ति मोटापे का शिकार बनता है। इससे शरीर में अनावश्यक रूप से वसा इकट्ठी हो जाती है और शरीर थुलथुला बनकर अनेका नेक रोगों का शिकार बन जाता है।

आज की इस सर्वाधिक भयावह एवं नूतन व्याधि – में दो वृद्धि अर्थात मोटापे की समस्या का समाधान खोज रहे पोषण विज्ञानियों एवं चिकित्सा शास्त्रियों ने इनके तीन प्रमुख कारण बतायें है – 1. सहज या आनुवंशिक कारण, 2. आहार-विहारजन्य और, 3. हाॅर्मोन-अंसतुलन। सहज कारण वह है, जो जाति विशेष के अनुसार अथवा आनुवंशिक गुणों के आधार पर पीढ़ी-दर-पीढ़ी पाया जाता है। ऐसे लोगों की संख्या अंगुलियों पर गिनने लायक ही होती हैं, मोटोपे का प्रमुख कारण वस्तुतः आधुनिक आरामदायक जीवनशैली का खान-पान (जंकफूड वाला) व रहन-सहन है। अत्याधिक पौष्टिक आहार का सेवन, कुछ-न-कुछ सदैव खाते-पीते रहने की आदत, दिन में सोना एवं शारीरिक श्रम या व्यायाम का अभाव मोटापे के प्रधान कारण हैं। अधिक मात्रा में मक्खन, मलाई, दूध, घी, पनीर का सेवन, मद्यपान, माँसाहार, कोल्ड ड्रिंक्स, फास्टफूड, बर्गर पीजा, आइसक्रीम, पेट्रीस, सैंडविच, काॅफी, बिस्किट्स, चाॅकलेट, केक, एवं मिठाइयाँ आदि के अधिक एवं बार-बार सेवन करने से शरीर में धीरे-धीरे अतिरिक्त चर्बी जमा होने लगती है। आज की इंटरनेट संस्कृति ने इस रोग में और भी वृद्धि की है।
इसके अतिरिक्त जो व्यक्ति शारीरिक श्रम नहीं करते, व्यायाम आदि से बचते हैं, और गरिष्ठ आहार ग्रहण करते हैं, उनका शरीर भी अतिरिक्त ऊर्जा का संचय वसा के रूप में करता है। फलस्वरूप यही वसा या मेद पेट, कमर, गर्दन, गाल आदि में जमा होकर उन्हें भारी व बेडौल बना देती है। हाॅर्मोन-असंतुलन भी मोटापा बढ़ता है। अंतः स्त्रावी गं्रथियों जैसे – थाइराइड ग्रंथि, पिच्यूटरी ग्रंथि, एड्रनल ग्रंथि आदि से उत्सर्जित होेने वाले हाॅर्मोन रसायनों की विकृति भी एक ऐसी जटिल समस्या है, जो सूलिता उत्पन्न करती है, इसके अतिरिक्त अनेक मानसिक एवं भावनात्मक कारण भी ऐेसे हैं, जो व्यक्ति के हाॅर्मोनल एवं चयापचयी संतुलन गड़बड़ी, अकेलापन, निराशा, अतृप्त आकांक्षांये आदि भावनात्मक कारणों से भी व्यक्ति इसका शिकार बनता है। मानसिक तनाव मोटापा बढ़ाने में अहम् भूमिका निभाता है। कई बार स्टीराॅयड प्रकृति की औषधियाँ भी शरीर को स्थूल बना देती है।

निदान :-
स्थूलता मिटाने, मोटापा घटाने और शरीर को छरहरा एवं सुडौल बनाने के लिये योग, व्यायाम एवं जिम से लेकर आहार शास्त्रियों एवं चिकित्सा, विज्ञानिकों द्वारा कितने ही नुस्खे एवं औषधि उपचार प्रचलित प्रसारित है। लोग इन्हें आजमाते भी हैं और कुछ दिनों में वजन भी कम कर लेते हैं। लेकिन थोड़े दिनों बाद जरा सी ढ़ील देते ही वही पुरानी स्थिति फिर से आ जाती है, जब व्यक्ति पहले की अपेक्षा अधिक मोटा हो जाता है। इसका प्रमुख कारण यह है कि हम कृत्रिम साधनों से अपने शारीरिक वजन को, स्थूलता को नियंत्रित करने का प्रयत्न करते हैं। यदि उचित एवं संतुलित खान-पान, रहन-सहन की आदतों और शारीरिक श्रम, व्यायाम आदि का दैनिक जीवन में समावेश कर लिया जाये तो कोई कारण नहीं कि मोटापे से आसानी से न बचा जा सके।

मोटापा घटाने एवं वजन कम करने के लिये प्रायः डायटिंग या उपवास का सहारा लिया जाता है। महिलाओं में यह प्रचलन विशेष रूप से देखने को मिलता है। लेकिल इस संदर्भ में पोषण विज्ञानियों एवं चिकित्सा – शास्त्रियों द्वारा किये शोध – निष्कर्ष बताते हैं कि छरहरा बनाने इस विद्या को अपनाने से प्रायः लाभ कम, हानि ज्यादा है। लम्बे समय तक डाइटिंग करते रहने से आॅस्टियों पोरोसिस जैसी स्वास्थ्य समस्यायें उठ खड़ी होती हैं।
आधुनिक चिकित्सा विज्ञान में अति स्थूलता अथवा मोटापा दूर करने के लिये ‘लाइपोसक्षन’ नामक उपचार प्रक्रिया का आश्रय लिया जाता है। इस विधि में डायथर्मी प्रक्रिया द्वारा अथवा एवं मशीन विशेष द्वारा पेट के नीचे जमा हुई वसा की मोटी परत को चूस या सोख लिया जाता है। इसके अलावा सेलोथर्म उपचार, डीपहीट उपचार या गर्म वाष्प स्नान आदि का भी प्रयोग जाता है, पर इन सबके रिबांउड प्रभाव ही होते हैं फिर मोटापा आ घेरता हैै।

भारतीय आयुर्वेद चिकित्सा प्रणाली में इस महारोग से पिंड छुड़ाने और पूर्ण स्वस्थ जीने के कितने ही उपाय-उपचारों है। इस संदर्भ में देव संस्कृति विश्वविद्यालय एवं ब्रह्मवर्चस शोध संस्थान के चिकित्सा-विज्ञानियों ने अपने गहन अध्ययन, अनुसंधान एवं प्रयोग परीक्षणों के आधार पर जो निष्कर्ष प्रस्तुत किये हैं, उसके सत्परिणाम बहुत ही उत्साह जनक एवं जनोपयोगी सिद्ध हुये हैं। इस उपचार उपक्रम में मुख्य रूप से यज्ञोपचार प्रक्रिया एवं क्वाथ चिकित्सा सम्मिलित हैं। सबसे पहले यहाँ पर मोटापा नाशक विशिष्ट हवन सामग्री का वर्णन किया जा रहा है।

मोटापा नाशक विशिष्ट हवन सामग्री ( इनमें निम्नलिखित वसतुयें समभाग में मिलाई जाती हैं )ः- 1. गिलोय, 2. बायबिडंग, 3. नागरमोथा, 4. चव्य, 5. चित्रक, 6. अरणी (अग्निमंथ), 7. त्रिफला, 8. त्रिकटु, 9. विजयसार, 10. कालीजीरी, 11. लोध्र, 12. अगर, 13. नीम, 14. आम की छाल, 15. अनार की छाल, 16. पुनर्नवा, 17. बाकुची के बीज, 18. गुग्गुल, 19. लोबान, 20. मोचरस, 21. जामुन के पत्ते व बीज, 22. अर्जुन के फल व छाल, 23. कूठ, 24. प्रियंगु, 25. चंदन, 26. नागकेसर, 27. दोनों तरह की तुलसी (रामा और श्यामा), 28. एंरडमूल, 29. अपामार्ग (चिरचिटा या ओंगा), 30. तेजपत्र, 31. मालकांगनी (ज्योतिष्मती) के बीज, 32. सर्पगंधा, 33. जटामांसी, 34. ब्राह्मी, 35. मुलैठी, 36. बच, 37. शंखपुष्पी, 38. पिप्लामूल, 39. पटोलपत्र, 40. देवदार, 41. निर्गुडी, 42. जौ, 43. कपूर, 44. सुगंधबाला, 45. बिल्व, 46. दालचीनी।

उपरोक्त सभी 46 सामग्री को बराबर मात्रा में लेकर साफ-स्वच्छ करके कूट-पीसकर उनका दरदरा जौकुट पाउडर बना लेते हैं और उसे एक डिब्बे में सुरक्षित रख लेते हैं। इस डिब्बे पर ‘मोटापानाशक विशिष्ट हवन सामग्री नं0-2’ का लेबल चिपका देते हैं।

इसी तरह समभाग में 1. अगर, 2. तगर, 3. देवदार, 4. श्वेत चंदन, 5. लाल चंदन, 6. गिलोय, 7. अश्वगंधा, 8. गुग्गुल, 9. लौंग, 10. जायफल आदि को कूट-पीसकर ‘काॅमन हवन सामग्री’ पहले से तैयार रखते हैं। इसमें खाँड़सारी गुड़, गोधृत, जौ आदि भी मिले होते हैं। इसे अलग डिब्बे में रखा जाता है और उस पर ‘काॅमन हवन सामग्री नं0-1’ का लेबल लगा दिया जाता है।

हवन करते समय 50 ग्राम काॅमन हवन सामग्री नं0-1 तथा 50 ग्राम ‘विशिष्ठ हवन सामग्री नं0-2’ को लेकर आपस में अच्छी तरह मिला लेते हैं, तदुपरांत सूर्य गायत्री मंत्र से हवन करते हैं। सूर्य गायत्री मंत्र इस प्रकार है :-

ॐ भूर्भुवः स्वः भास्कराय विद्महे, दिवाकराय धीमहि, तन्नः सूर्यः प्रचोदयात्।। स्वाहा।। इदम सूर्याय इदम् न मम्।।

इस महामंत्र से कम-से-कम चैबीस आहुतियाँ अवश्य देनी चाहिये। एक-सौ आठ आहुतियाँ दे सकें, तो और भी अच्छा है। इस क्रम को नित्य प्रातःकाल नियमित रूप से कुछ महीनों तक योग-व्यायाम के साथ करते रहने से शरीर की चर्बी घटने लगती है। शरीर की मांसपेशियाँ, तंत्रिका तंतु, हृदय, फेफड़े आदि अंग अवयव सक्रिय हो उठते हैं और अपनी पूर्ण क्षमता से कार्य करने लगते हैं।

हवनोपचार के साथ-साथ निम्नलिखित – ‘मेदनाशक क्वाथ’ का भी सेवन करना चाहिये। इस क्वाथ का सेवन करने से अतिस्थूलकाय व्यक्ति भी सामान्य अवस्था में आ जाता है। जिनकी तोंद बढ़ी हुई है, उनके लिये तो यह सर्वाेत्तम उपचार हैं।

मेदनाशक क्वाथ :- (इसमें निम्नलिखित चीजें बराबर-बराबर मात्रा में मिलाई जाती हैं )ः- 1. आँवला, 2. हरड़, 3. बहेड़ा, 4. गिलोय, 5. नागरमोथा, 6. तेजपत्र, 7. चित्रक, 8. विजयसार, 9. हल्दी, 10. अपमार्ग (चिरचिटा) के बीज।
उपरोक्त सभी 10 चीजों को समभाग में लेकर कूट-पीसकर उसका जौकुट कर पाउडर बना लेते हैं, और उसे सुरक्षित डिब्बे में रख लेते हैं।

क्वाथ बनाने की सरल विधि यह है कि इस पाउडर में से पाँच चम्मच (15 ग्राम) पाउडर निकालकर आधा लीटर पानी में स्टील के एक भगोने में डालकर रात में रख देते हैं। सुबह से चूल्हे या गैस बर्नर पर मंदाग्नि पर चढ़ाकर क्वाथ बनने के लिये रख देते हैं। उबलते-उबलते जब चैथाई अंश पानी शेष बचता है, तो उसे बर्नर पर से उतारकर ठंडा होने पर महीन कपड़े में निचोड़कर छान लेते हैं। क्वाथ का आधा भाग सुबह 8 से 10 बजे के बीच खाली पेट एवं आधा भाग शाम को 4 से 6 बजे के बीच सेवन करते हैं। क्वाथ पीते समय उसमें एक चम्मच शहद अवश्य मिला लेना चाहिये। पथ्य-परहेज के साथ नित्य नियमित रूप से इस क्वाथ को शहद के साथ सेवन करने से महीने भर में यह अपना प्रभाव दिखाने लगता है। अनावश्यक स्थूलता घटने लगती है और व्यक्ति कुछ ही दिनों में दुबला हो जाता है। क्वाथ का सेवन भोजन करने से कम से कम एक घंटे पूर्व करना चाहिये। स्थूलता-मोटापा या बढ़ी हुई तोंद से त्रस्त जो लोग तथ्य-परहेज का अक्षरशः पालन नहीं कर सकते, उनके लिये निम्नांकित चूर्ण या पाउडर बहुत ही लाभकारी सिद्ध होता है। क्वाथ के साथ या अकेले ही इसका सेवन करने भोजन करने के बाद जो पोषक तत्व पहले वसा या चर्बी मे बदलकर मोटापा बढ़ा रहे थे, वह प्रक्रिया रूक जाती है और उसके स्थान पर रसरक्त की अभिवृद्धि होने लगती है।

स्थौल्यहर पाउडर :- इसमें निम्नलिखित चीजें मिलाई जाती हैं :- 1. सौंठ 10 ग्राम, 2. पीपल 10 ग्राम, 3. काली मिर्च 10 ग्राम, 4. पिप्लामूल 10 ग्राम, 5. आँवला 10 ग्राम, 6. हरड़ 10 ग्राम, 7. बहेड़ा 10 ग्राम, 8. चव्य 10 ग्राम, 9. चित्रकमूल 10 ग्राम, 10. कालीजीरी 10 ग्राम, 11. बाकुची बीच 10 ग्राम, 12. अपामार्ग के बीज 10 ग्राम, 13. बायबिडंग 10 ग्राम, 14. सेंधा नमक 10 ग्राम, 15. काला या साँचल नमक 10 ग्राम, 16. सादा नमक 10 ग्राम, 17. यवक्षार 19 ग्राम, 18. कांतलौह भस्म 10 ग्राम।

उपरोक्त सभी 18 सामग्री को एक साथ घोट-पीसकर कपड़छान करके एयर टाइट शीशे के बर्तन या प्लास्टिक के डिब्बे में सुरक्षित रख लेना चाहिये। इसमें से नित्य नियमित रूप से आधा ग्राम से एक ग्राम चूर्ण सुबह व आधा ग्राम से एक ग्राम (आधा चम्मच) शाम को, दो चम्मच शहद में अच्छी तरह मिलाकर चाट लें। शहद के अभाव में थोड़े जल के साथ भी ले सकते हैं। कम-से-कम 6 माह तक सेवन करने से उपरोक्त प्रतिफल सामने आने लगते हैं। तोंद घटाने एवं मोटापा दूर करने के लिये योगासन, व्यायाम, खेलकूद, टहलना, बागवानी आदि का क्रम दैनिक जीवन में अवश्य सम्मिलित रहना चाहिये।

दूसरी ओर पथ्य-परहेज का भी पालन करना चाहिये, विशेषकर तब, जब उपरोक्त हवनोपचार एवं क्वाथ सेवन चल रहा हो। उन दिनों जौ की रोटी, दलिया, पुराना बासी चावल, कोदो, साँवां, नीवार, प्रियंगु, कुलथी, चना, मसूर, मूँग, अरहर दाल, खील, शहद, मक्खन निकला हुआ मठ्ठा, बैंगन का भूरता, कच्चा केला, परमल, तोरई, लौकी, पत्तागोभी, चैलाई, पालक, मेथी, अदरक, खीरा, ककड़ी मूलीपत्ता का सलाद, उबली सब्जियाँ, हलका सेंघा नमक, अंगूर, नारंगी आदि लिये जा सकते हैं। भारी, गरिष्ठ, मीठे चिकनाईयुक्त एवं तले-भुने पदार्थ अतथ्य हैं। इनके सेवन से बचना चाहिये। भोजन करने आधा घंटा पहले पानी, पानी भोजन के दौरन न पीकर आधा घंटे बाद पानी मोटापे में बहुत लाभकारी है।

नोट: कोई भी औषधी वैद्य के परामर्श से ही सेवन करें।

आडू और सेहत

सेहत के लिए आडू

Dr.R.B.Dhawan (Astrological Consultant) top best astrologer in delhi

आड़ू बहुत रसीला फल है, जो गर्मीयों में पैदा होता है, सेहत के लिए आड़ू बहुत लाभदायक है, इस फल के लाभ अनेक हैं‌, दुनिया के कई देशों में उगाया जाने वाला यह फल लाल से लेकर पीले रंग में उपलब्ध होता है। आड़ू की बाहरी परत बहुत चिकनी और रसदार होती है। (juicy) और ताजे सुगंध वाला यह पीला फल बाहर से देखने में बिल्कुल सेब जैसा दिखाई देता है, लेकिन अंदर के कठोर और बड़े बीज इसे सेब से अलग पहचान देते हैं। आड़ू का उपयोग जैम और जेली बनाने में भी किया जाता है। सेहत के लिए फायदेमंद होने के कारण आड़ू का उपयोग कई रोगों के इलाज में भी किया जाता है। आड़ू में कई पोषक तत्व पाए जाते हैं, आइये जानते है आड़ू के फायदे और आड़ू के नुकसान के बारें में।

आड़ू में पाए जाने वाले पोषक तत्व :-

आड़ू में बहुत ही अधिक मात्रा में पोषक तत्व पाये जाते हैं, जो सेहत के लिए आवश्यक होते हैं। आड़ू विटामिन ए और बीटा-कैरोटीन का बहुत ही बढ़िया स्रोत है। इसमें एस्कार्बिक एसिड पाया जाता है, और विटामिन ई, विटामिन के, विटामिन बी-1 बी-2, बी-3, बी-6 के अलावा यह फोलेट और पेंटोथेनिक एसिड से भरपूर होता है। इसमें कम कैलोरी होती है और कोलेस्ट्रॉल भी कम होता है। इस कारण यह सेहत के लिए अधिक फायदेमंद माना जाता है।

पाचन के लिए आड़ू के फायदे : –

️आड़ू में फाइबर और क्षार (alkeline) की मात्रा बहुत होती है, जिसके कारण यह पाचन क्रिया को बेहतर बनाए रखने में मदद करता है। आड़ू में मौजूद डाइटरी फाइबर पानी को अवशोषित करता है, और पेट की बीमारियों जैसे कब्ज, बवासीर, पेट के अल्सर और गैस की समस्या को दूर करने में मदद करता है। यह आंत से विषाक्त पदार्थों को निकालकर आंत को साफ रखता है, और पेट संबंधी बीमारियों से बचाता है।

मोटापा कम करने में :–

आड़ू में बायोएक्टिव कंपोनेंट पाया जाता है, और यह मोटापे की समस्या से लड़ने में बहुत लाभप्रद होता है। आड़ू में फिनोलिक कंपाउंड पाया जाता है जो सूजनरोधी होता है, और मोटापे की समस्या से लड़ने में मदद करता है, और मेटाबोलिक सिंड्रोम को दूर कर शरीर को गंभीर बीमारियों से बचाता है।आड़ू का उपयोग मोटापे की समस्या दूर किया जा सकता है।

इम्यूनिटी बढ़ाने में :–

आड़ू में एस्कॉर्बिक एसिड (vitamin c) और जिंक भी भरपूर मात्रा में मौजूद होता है, जो इम्यून सिस्टम को बेहतर बनाता है, और शरीर की क्रिया को ठीक रखता है। जिंक और विटामिन सी घाव भरने में सहायक होता है, और संक्रमण से लड़ता है। इसके अतिरिक्त यह सर्दी, मलेरिया, निमोनिया और डायरिया जैसे रोगों को दूर करने में सहायक होता है। इन तत्वों की कमी होने पर शरीर की कई क्रियाओं में की प्रकार की गड़बड़ हो जाती हैं।

आड़ू खाने से कोलेस्ट्रॉल घटता है :–

आड़ू में मौजूद फिनोलिक कंपाउंड एलडीएल नामक खराब कोलेस्ट्रॉल को कम करता है, और अच्छे कोलेस्ट्रॉल एचडीएल को बढ़ाता है। इससे हृदय संबंधी बीमारियां विकसित नहीं होती हैं, और यह कार्डियोवैस्कुलर को स्वस्थ रखने में सहायक होता है।

गर्भावस्था में आड़ू उपयोगी है :–आड़ू में अनेक आवश्यक खनिज तत्व और विटामिन होते हैं, गर्भावस्था में बहुत ही लाभदायक होते हैं। इसमें मौजूद विटामिन सी बच्चे के हड्डियों को शक्तिशाली बनाने, दांत, त्वचा, रक्त वाहिकाएं (blood vessels) और मांसपेशियों को मजबूत बनाने में मदद करता है। यह आयरन का भी अवशोषण करता है, जो गर्भावस्था के दौरान बहुत जरूरी होता है। आड़ू में पाये जाने वाला पोटैशियम आमतौर पर गर्भावस्था में होने वाली थकान से बचाता है।

आड़ू के लाभ मधुमेह में :–

आड़ू में कार्बोहाइड्रेट होता है, जिसे खाने से मधुमेह की समस्या नहीं होती है। एक मध्यम आकार के आड़ू में करीब 15 ग्राम कार्बोहाइड्रेट मिलता है, जो मधुमेह के रोगियों के लिए बहुत लाभदायक होता है। इसके अतिरिक्त आड़ू में और भी लाभदायक पोषक तत्व होते हैं, जो कि स्वास्थ्य के लिए लाभकारी होते हैं।️आड़ू कैंसर से बचाता है :–

आड़ू में कैरोटीनॉयड और फिनोलिक कंपाउंड होता है, जो कैंसर रोधी (anti cancer) का काम करता है, और ब्रेस्ट कैंसर, फेफड़ों का कैंसर, कोलोन कैंसर से हमें बचाता है। इसमें क्लोरोजेनिक और नियोक्लोरोजेनिक एसिड भरपूर मात्रा में पाया जाता है, जो ब्रेस्ट कैंसर उत्पन्न करने वाली कोशिकाओं को सामान्य बनाता है। इसके इन्हीं गुणों के कारण कैंसर रोगियों को आड़ू का सेवन करने के लिए कहा जाता है।

आड़ू त्वचा की देखभाल के लिए :–

पर्याप्त मात्रा में विटामिन सी मौजूद होने के कारण आड़ू त्वचा की देखभाल के लिए अच्छा माना जाता है। यह हानिकारक मुक्त कणों और संक्रमण से लड़ता है। यह यू वी किरणों से भी त्वचा को बचाता है। इसमें जियाजैंथीन और ल्यूटीन नामक एंटीऑक्सीडेंट मौजूद होते हैं, जो त्वचा की सूजन को दूर करने में लाभकारी होता है, आजकल आड़ू का उपयोग चेहरे की क्रीम बनाने में भी किया जाता है।

️आंखों की रोशनी के लिए आड़ू :-

आड़ू बीटा-कैरोटीन से भरपूर होता है, जो शरीर में जाकर विटामिन ए में बदल जाता है। बीटा-कैरोटीन आंखों की रोशनी (eyes sight) को बेहतर बनाने में मदद करता है, और आंखों की बीमारियों जीरोफ्थैलमिया (xerophthalmia) और अंधेपन से बचाता है। इसलिए आंखों की बेहतर रोशनी के लिए आड़ू का सेवन लाभकारी होता है।

️आड़ू बुद्धिवर्धक भी है :-

परीक्षण में पाया गया है कि आड़ू सेंट्रल कोलिनर्जिक सिस्टम को प्रभावी बनाने में लाभप्रद होता है। कोलिनर्जिक सिस्टम दिमाग का न्यूरोट्रांसमीटर सिस्टम होता है, जो की यादाश्त से जुड़ा हुआ होता है। आड़ू में पाये जाने वाले यौगिक अल्जाइमर (Alzheimer ) जैसी दिमाग की बीमारियों को दूर करते हैं, और यादाश्त को दुरूस्त बनता है।

️आड़ू के कुछ नुकसान :–

वैसे तो फलों को कैंसर का रक्षक माना जाता है, लेकिन एक अध्ययन से पता चलता है, कि नारंगी या पीले फल पुरुषों में कोलोरेक्टर कैंसर (colorectal cancer) का कारण हो सकते हैं। इसलिए आड़ू के सेवन से पहले यह ध्यान रखें।

आड़ू छोटी आंत में शर्करा का किण्वन सही तरीके से नहीं कर पाता है, अधिक सेवन की वजह से गैस की समस्या हो जाती है, और सूजन भी हो सकती है।

आड़ू के सेवन से किसी किसी को एलर्जी हो सकती है क्योकि इसमें सैलिसिलेट्स (salicylates) होता है जो एलर्जिक रिएक्शन उत्पन्न कर सकता है।

मेरे और लेख देखें :- shukracharya.com, aapkabhavishya.in, astroguruji.in, rbdhawan@wordpress.com, gurujiketotke.com पर।

सूर्य किरण चिकित्सा

सूर्य की रोशनी में सात रंग की किरणें होती हैं, ज्योतिषीय मतानुसार सूर्य की किरणों से अपने सातों ग्रहों को अनुकूल कर सकते हैं :-

Dr.R.B.Dhawan

जातक की कुंडली के प्रतिकूल ग्रहों को सूर्य की किरणों से चिकित्सा कर भाग्य को चमकाया जा सकता है, जन्म कुंडली द्वारा जब यह निश्चित हो जाता है कि कुंडली में कौन कौन से ग्रह कमजोर हैं, जिसे आप उस ग्रह के रंग से ठीक कर सकते हैं। तब उस ग्रह के लिए सूर्य की किरणों से उपचार करना सरल हो जाता है। सूर्य की सातों किरणों का प्रभाव अलग-अलग है, अपनी प्रकृति के अनुसार ये विभिन्न रोगों और मानसिक दोषों को दूर करने में सहायक सिद्ध होती हैं। सूर्य की सातों किरणों को तीन भागों में विभाजित किया जा सकता है। शरीर में तीन प्रकार के प्रमुख दोष होते हैं:- “वात, पित और कफ” जो ग्रह कमजोर होता है, उस रंग की कमी हो जाती है। जिसे आप जातक की कुंडली से जानकर उस का उपचार कर सकते हैं। जैसे अग्नितत्व कमजोर होगा तो लाल रंग से चिकित्सा करना होगा …

१. पीला (Yellow), नारंगी (Orange), लाल (Red),

2. हरा (Green)

3. बैंगनी (Voilet), नीला (Indigo), आसमानी (Blue)

औषधिय जल निर्माण :-

1. सूर्य किरण चिकित्सा के लिए जिस किरण (Violet, Indigo, Blue, Green, Yellow, Orange या Red) का औषधिय जल बनाना हो, उसी रंग की कांच की साफ़ बोतल ले लेनी चाहिए। यदि उस रंग की बोतल न हो तो उस कलर का BOPP ले कर बोतल पर लपेट दें, बोतलों को अच्छी तरह से धोकर साफ़ कर लें। उसके बाद उसमे साफ़ पीने का पानी भर दें। बोतल को ऊपर से तीन अंगुल खाली रखें, और ढक्कन लगाकर अच्छे से बंद कर दें।

2. पानी से भरी इन बोतलों को सूर्योदय के समय से 6 से 8 घंटे तक धूप में रख दें। बोतलें रखते समय इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि किसी भी बोतल की छाया दूसरी बोतल पर न पड़े। रात्रि को बोतल को घर के अंदर रख दें। इस प्रकार सूर्य किरण औषधि तैयार हो जाती है। यह औषधिय जल को रोगी को दिन में 3-4 बार पिलायें। एक बार तैयार किये गए औषधिय जल को 4 -5 दिन तक पी सकते हैं। औषधिय जल समाप्त होने के पश्चात पुनः बना लें।

औषधि सेवन कैसे करें : –

नारंगी रंग के औषधिय जल को भोजन करने के 15 मिनट बाद और 30 मिनट के अंदर लेना चाहिए। हरे या नीले रंग के औषधिय जल को खाली पेट या भोजन करने से एक घंटा पहले सेवन करना चाहिए। हरे रंग के औषधिय जल को प्रातः काल 200 मि. ली. तक ले सकते हैं। यह औषधिय जल शरीर से Toxins को बाहर निकालता है, एवं इसका कोई विपरीत प्रभाव भी नहीं है।

मात्रा :- एक बार में एक से दो चम्मच औषधिय जल लें, दिन में तीन या चार बार ले सकते हैं।

औषधीय जल सेवन से लाभ :

1. लाल (Red) रंग :- लाल रंग की बोतल का जल अत्यंत गर्म प्रकृति का होता है। अतः जिनकी प्रकृति गर्म हो उन्हें इसे नहीं लेना चाहिए। इसको पीने से खूनी दस्त या उलटी हो सकती है। इस जल का उपयोग केवल मालिश करने के लिए करना चाहिए। यह Blood और Nerves को उत्तेजित करता है। और शरीर में गर्मी बढ़ाता है। गर्मियों में इसका उपयोग नहीं करना चाहिए। यह सभी प्रकार के वात और कफ रोगों के लिए लाभ प्रदान करता है।

2. नारंगी (Orange) रंग :- नारंगी रंग की बोतल में तैयार किया गया जल Blood Circulation को बढ़ाता है, और मांसपेशियों को मजबूत करता है। यह औषधिय जल मानसिक शक्ति और इच्छाशक्ति को बढ़ाने वाला है। अतः यदि किसी व्यक्ति की जन्मकुंडली में सूर्य या चन्द्रमा निर्बल है तो, उसे इस जल का उपयोग करके अत्यंत लाभ प्राप्त हो सकता है। यह औषधिय जल बुद्धि और साहस को भी बढ़ाता है। कफ सम्बंधित रोगों, खांसी, बुखार, निमोनिया, सांस से सम्बंधित रोग, Tuberculosis, पेट में गैस, हृदय रोग, गठिया, Anaemia, Paralysis आदि रोगों में लाभ देता है। यह औषधिय जल माँ के स्तनों में दूध की वृद्धि भी करता है।

3. पीला(Yellow) रंग :- शारीरिक एवं मानसिक स्वस्थता के लिए यह जल बहुत उपयोगी है परन्तु इस जल को थोड़ी मात्रा में लेना चाहिए। यह जल Digestive System को ठीक करता है अतः पेट दर्द, कब्ज आदि समस्यायों के निवारण हेतु इस जल का सेवन लाभकारी है। परन्तु पेचिश होने पर इस जल का प्रयोग वर्जित है। इसके अतिरिक्त हृदय, लीवर और Lungs के रोगों में भी इस जल को पीने से लाभ मिलता है।

4. हरा (Green) रंग :- यह औषधिय जल शारीरिक स्वस्थता और मानसिक प्रसन्नता देने वाला है। Muscles को regenerate करता है। Mind और Nervous system को स्वस्थ रखता है। इस जल को वात रोगों, Typhoid, मलेरिया आदि बुखार, Liver और Kidney में सूजन, त्वचा सम्बंधित रोगों, फोड़ा -फुन्सी, दाद, आँखों के रोग, डायबिटीज, सूखी खांसी, जुकाम, बवासीर, कैंसर, सिरदर्द, ब्लड प्रेशर, आदि में सेवन करना लाभप्रद है।

5. आसमानी (Blue) रंग: – यह जल शीतल औषधिय जल है। यह पित्त सम्बंधित रोगों में लाभप्रद है। प्यास को शांत करता है एवं बहुत अच्छा Antiseptic भी है। सभी प्रकार के बुखारों में सर्वोत्तम लाभकारी है। कफ वाले व्यक्तियों को इसका उपयोग नहीं करना चाहिए। यह बुखार, खांसी, दस्त, पेचिश, दमा, सिरदर्द, Urine सम्बन्धी रोग, पथरी, त्वचा रोग, नासूर, फोड़े -फुन्सी, आदि रोगों में अत्यंत लाभ प्रदान करता है।

6. नीला (Indigo) रंग:- यह औषधिय जल भी शीतल श्रेणी में आता है। इस औषधि को लेने में थोड़ी सी कब्ज की शिकायत हो सकती है, परन्तु यह शीतलता और मानसिक शान्ति प्रदान करता है। शरीर पर इस जल का प्रभाव बहुत जल्दी होता है। यह Intestine, Leucoria, योनिरोग आदि रोगों में विशेष लाभप्रद है। तथा शरीर में गर्मी के सभी रोगों को समाप्त करता है।

7. बैंगनी (Voilet) रंग :- इस औषधिय जल के गुण बहुतायत में नीले रंग के जल से मिलते जुलते हैं। इसके सेवन से Blood में RBC Count बढ़ जाता है। यही खून की कमी को दूर कर Anaemia रोग को ठीक करता है। Tuberculosis जैसे रोग को ठीक करता है। इस जल को पीने से नींद अच्छी आती है।

मेरे और लेख देखें :- rbdhawan@wordpress.com, aapkabhavishya.in, astroguruji.in,gurujiketotke.in shukracharya.com पर भी।

ज्योतिष और मासिक धर्म

महिलाओं को मासिक धर्म या पीरियड्स 28 दिन में ही क्यों? :-

Dr.R.B.Dhawan

मासिक धर्म और चन्द्रमा दोनों के 28 दिवसीय चक्र का ज्योतिषीय सम्बन्ध है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार 28 नक्षत्र (अभिजित सहित) होते हैं, जब किसी महिला के जन्म समय के नक्षत्र से वर्तमान चन्द्रमा का गोचर 28 नक्षत्रों पर पूर्ण होता है, तो नियमतः मासिक धर्म आरम्भ होता है। वस्तुत: मासिक धर्म महिलाओं के स्वास्थ्य का सूचक तंत्र है। जिसका ज्योतिषीय संबंध चंद्रमा ग्रह से होता है। इस चक्र में अनियमितता की वजह से महिलाओं को कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है। जहां कुछ महिलाओं को पीरियड देरी से आते हैं तो, वहीं कुछ महिलाओं को मासिक चक्र पूरा होने से पहले ही पीरियड आ जाता है। समय से और नियमित माहवारी आना महिलाओं की सेहत के लिए बहुत अच्‍छा होता है। यदि कोई महिला लगातार अनियमित माहवारी का सामना कर रही है तो, उसको सावधान रहने की जरुरत है। अपने कुंडली के चंद्रमा और मंगल ग्रह पर विशेष ध्यान देना चाहिए। आइए जानते हैं आखिर क्‍यों कई बार महिलाओं को अनियमित मासिक धर्म जैसी परेशानियों का सामना करना पड़ता है।

एक या दो दिन देरी से पीरियड आना या जल्‍दी आना फिर भी सामान्‍य सी बात है। मासिक धर्म का च‍क्र 28 दिनों का होता है। अगर पीरियड एक हफ्ते देरी से आते हैं या पहले ही आते हैं तो यह महिला के लिए चिंताजनक स्थिति है, और इस अवधि में महिलाओं को असहनीय दर्द भी सहना पड़ता है। यहां हम बता रहे हैं कि जल्‍दी और देरी से मासिक धर्म आने का कारण क्‍या है? क्‍या यह स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्‍याएं पैदा कर सकता है?

1. हार्मोनल असंतुलन :- यदि आपके पीरियड अनियमित हैं तो आपको जांच करने की जरुरत है कि कहीं हार्मोन में तो कुछ गड़बड़ नहीं हैं, क्‍योंकि हार्मोन अंसतुलन होने की वजह इसका असर सीधा मासिक धर्म में पड़ता है। एन्डोमीट्रीओसिस एंडोमीट्रीओसिस एक ऐसी स्थिति होती है, जहां गर्भाशय, योनि की दीवारों और फैलोपियन ट्यूबों के अस्तर में एक ऊतक का विकास होता है। जिसकी वजह से मासिक धर्म में अनियमिताएं होती हैं।

2. पोषक तत्वों की कमी :- पौषण की ओर ध्यान देना भी नि‍यमित मासिक धर्म के लिए आवश्यक है। यदि शरीर में निश्चित पोषक तत्‍वों की कमी होने लगती है तो भी इसका असर मासिक धर्म में दिखाई देता है।

3. तनाव :- कभी कभी स्‍ट्रेस का असर भी महिलाओं के मासिक धर्म पर देखने पर मिलता है। जब कोई महिला तनाव में होती है तो शरीर से कॉर्टिसॉल और एड्रेनालाईन हार्मोन शरीर से निकलते हैं, जिसके वजह से मासिक धर्म इफेक्‍ट होते हैं,
थाईराइड की समस्‍या चाहे हाइपरथायरॉडीज या हाइपोथायरायडिज्म हो, दोनों ही मामलों में मासिक धर्म के चक्र पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। थाइराइड का स्‍तर ज्‍यादा हो या कम लेकिन ये मासिक धर्म के लिए बिल्‍कुल भी ठीक नहीं है। हार्मोन्‍स की गड़बड़ी या असंतुलन की वजह से होता है। इस सिंड्रोम की वजह से ऑवरीज में अंडों का विकास होने में असफल हो जाता है। जिसकी वजह से मासिक धर्म में समस्‍या होती है। और संतान होने में भी समस्या आती है, जिसे आप दैनिक दिनचर्या में सुधार कर ठीक कर सकते हैं।

उपचार :-

1. कैल्शियम की मात्रा को संतुलित करें क्योंकि इसका सम्बन्ध चंद्रमा से है। माँ से संबंध मधुर रखें, पानी अपने वजन के अनुसार पियें। फ्रीज़ का सामान नहीं लें।

2. अपने क्रोध पर नियंत्रण रखें। भाई से संबंध मधुर रखें, क्योंकि रक्त का संबंध मंगल से है, मासिक में रक्त डिस्चार्ज होता है।

3. लाल मिर्च व खट्टा नहीं खायें और न ही लाल वस्त्र पहनें।क्योकि इससे क्रोध बड़ेगा।

4. सोना नहीं पहने, चाँदी के आभूषणों का प्रयोग अधिक किया करें।

5. पीले वस्त्र अधिक धारण करें, हल्दी मिश्रित दूध का सेवन किया करें।

मेरे और लेख देखें :- aapkabhavishya.in, astroguruji.in, gurujiketotke.in, rbdhawan@wordpress.com, shukracharya.com पर भी।

बथुआ

बथुआ के गुण और लाभ :-

Dr.R.B.Dhawan

इन दिनों दिनों बाज़ार में खूब बथुए का साग आ रहा है, बथुआ संस्कृत भाषा में वास्तुक और क्षारपत्र के नाम से जाना जाता है, बथुआ एक ऐसी सब्जी या साग है, जो गुणों की खान होने पर भी बिना किसी विशेष परिश्रम और देखभाल के खेतों में स्वत: ही उग जाता है। एक डेढ़ फुट का यह हराभरा पौधा कितने ही गुणों से भरपूर है। बथुआ के परांठे और रायता तो लोग चटकारे लगाकर खाते हैं, बथुआ का शाक पचने में हल्का, रूचि उत्पन्न करने वाला, शुक्र तथा पुरुषत्व को बढ़ने वाला है। यह तीनों दोषों को शांत करके उनसे उत्पन्न विकारों का शमन करता है। विशेषकर प्लीहा का विकार, रक्तपित, बवासीर तथा कृमियों पर अधिक प्रभावकारी है।

– इसमें क्षार होता है, इसलिए यह पथरी के रोग के लिए बहुत अच्छी औषधि है, इसके लिए इसका 10-15 ग्राम रस सवेरे शाम लिया जा सकता है।

– यह कृमिनाशक मूत्रशोधक और बुद्धिवर्धक है।

-किडनी की समस्या हो जोड़ों में दर्द या सूजन हो ; तो इसके बीजों का काढ़ा लिया जा सकता है, इसका साग भी लिया जा सकता है।

– सूजन है, तो इसके पत्तों का पुल्टिस गर्म करके बाँधा जा सकता है, यह वायुशामक होता है।

– गर्भवती महिलाओं को बथुआ नहीं खाना चाहिए।

– एनीमिया होने पर इसके पत्तों के 25 ग्राम रस में पानी मिलाकर पिलायें।

– अगर लीवर की समस्या है, या शरीर में गांठें हो गई हैं तो, पूरे पौधे को सुखाकर 10 ग्राम पंचांग का काढ़ा पिलायें।

– पेट के कीड़े नष्ट करने हों या रक्त शुद्ध करना हो तो इसके पत्तों के रस के साथ नीम के पत्तों का रस मिलाकर लें, शीतपित्त की परेशानी हो, तब भी इसका रस पीना लाभदायक रहता है।

– सामान्य दुर्बलता बुखार के बाद की अरुचि और कमजोरी में इसका साग खाना हितकारी है।

– धातु दुर्बलता में भी बथुए का साग खाना लाभकारी है।

– बथुआ को साग के तौर पर खाना पसंद न हो तो इसका रायता बनाकर खाएं।

– बथुआ लीवर के विकारों को मिटा कर पाचन शक्ति बढ़ाकर रक्त बढ़ाता है। शरीर की शिथिलता मिटाता है। लिवर के आसपास की जगह सख्त हो, उसके कारण पीलिया हो गया हो तो छह ग्राम बथुआ के बीज सवेरे शाम पानी से देने से लाभ होता है।

– सिर में अगर जुएं हों तो बथुआ को उबालकर इसके पानी से सिर धोएं। जुएं मर जाएंगे और सिर भी साफ हो जाएगा।

– बथुआ को उबाल कर इसके रस में नींबू, नमक और जीरा मिलाकर पीने से पेशाब में जलन और दर्द नहीं होता।

– यह पाचनशक्ति बढ़ाने वाला, भोजन में रुचि बढ़ाने वाला पेट की कब्ज मिटाने वाला और स्वर (गले) को मधुर बनाने वाला है।

– पत्तों के रस में मिश्री मिला कर पिलाने से पेशाब खुल कर आता है।

– इसका साग खाने से बवासीर में लाभ होता है।

– कच्चे बथुआ के एक कप रस में थोड़ा सा नमक मिलाकर प्रतिदिन लेने से पेट के कीड़े मर जाते हैं।

बंग भस्म

बंग भस्म

Dr.R.B.Dhawan

बंग भस्म धातु वृद्धि, वीर्य वर्धक, वीर्य वृद्धि की सर्वोत्तम आयुर्वेदिक औषधि है, जिसे सेवन करने से धातु क्षीणता, वीर्यस्त्राव, स्वप्नदोष, शीघ्रपतन आदि रोग नष्ट होते हैं।
बंग भस्म से शुक्र संस्थान के लगभग सभी रोग नष्ट होते हैं, इस भस्म में यह गुण हैं कि यह शुक्र (वीर्य) की कमजोरी को दूर करती है, जब कोई पुरूष अधिक स्त्री सेवन अथवा अथवा अप्राकृतिक मैथुन या हस्तमैथुन करने से वातवाहिनी शिरा और मासपेशियां कमजोर होकर स्त्री प्रसंग करने में असमर्थ हो जाता है। जिसके परिणाम स्वरूप मन में उत्तेजक विचार आते ही या किसी सुंदर युवती को देखने अथवा बात करने से, या अश्लील तस्वीर आदि देखने मात्र से शुक्रस्त्राव होने लगता है। एेसी दशा में बंग भस्म का सेवन करना अच्छा है। यह औषधि रोग की अवस्था के अनुसार डा. की देखरेख में लेनी चाहिए।

मेरे और लेख देखें:- aapkabhavishya.in, astroguruji.in, rbdhawan@wordpress.com, shukracharya.com पर भी।

बालरोग चिकित्सा

बच्चों के रोग :-
Dr.R.B.Dhawan

बच्चों की चिकित्सा बड़ों की चिकित्सा से बहुत अलग होती है, क्योंकि बच्चे अपने रोग या पीड़ा को शब्दों से नहीं बता सकते, चिकित्सक को उसकी पीड़ा संकेतों से ही समझनी होती है। इसके अतिरिक्त माता-पिता को उसकी हर तकलीफ पर ध्यान देने की आवश्यकता होती है। बहुत मामलों में घरेलू नुस्खों से बहुत लाभ होता है, परंतु इसके लिए हर मां पिता को बच्चे के साधारण रोगों की या तकलीफ की जानकारी हो तो चिकित्सक के पास कम से कम जाना पड़ता है।

दस्त लगने पर : – 1. जायफल या सोंठ अथवा दोनों का मिश्रण पानी में घिसकर सुबह-शाम 3 से 6 रत्ती (करीब 400 से 750 मिलीग्राम) देने से हरे दस्त ठीक हो जाते हैं।

2. दो ग्राम खसखस पीसकर 10 ग्राम दही में मिलाकर देने से बच्चों की दस्त की तकलीफ दूर होती है।

पेट की गड़बड़ी या दर्द :-  5 ग्राम सोंफ लेकर थोड़ा कूट लें। एक गिलास उबलते हुए पानी में सोंफ लेकर थोड़ा कूट लें। एक गिलास उबलते हुए पानी में डालें व उतार लें और ढँककर ठण्डा होने के लिए रख दें। ठण्डा होने पर मसलकर छान लें। यह सोंफ का 1 चम्मच पानी 1-2 चम्मच दूध में मिलाकर दिन में 3 बार शिशु को पिलाने से शिशु को पेट फूलना, दस्त, अपच, मरोड़, पेटदर्द होना आदि उदरविकार नहीं होते हैं। दाँत निकलते समय यह सोंफ का पानी शिशु को अवश्य पिलाना चाहिए जिससे शिशु स्वस्थ रहता है।

अपचः- नागरबेल के पान के रस में शहद मिलाकर चाटने से छोटे बच्चों का आफरा, अपच तुरंत ही दूर होता है।

सर्दी-खाँसी :- 1. हल्दी का नस्य देने से तथा एक ग्राम शीतोपलादि चूर्ण पिलाने से अथवा अदरक व तुलसी का 2-2 मि.ली. रस 5 ग्राम शहद के साथ देने से लाभ होता है।

2. एक ग्राम सोंठ को दूध अथवा पानी में घिसकर पिलाने से बच्चों की छाती पर जमा कफ निकल जाता है।

3. नागरबेल के पान में अरंडी का तेल लगाकर हल्का सा गर्म कर छोटे बच्चे की छाती पर रखकर गर्म कपड़े से हल्का सेंक करने से बालक की छाती में भरा कफ निकल जाता है।
वराधः (बच्चों का एक रोग हब्बा-डब्बा)- सर्दी जुखाम और छाती में कफ व खांसी अक्सर रहना।

1. इस के लिए आक के पौधे की रूई का छोटा सा गद्दा बना लिया जायेगा, उस पर बच्चे को सुलाने से यह रोग ठीक हो जाता है।

2. जन्म से 40 दिन तक कुल मिलाकर दो आने भर (1.5 – 1.5 ग्राम) सुबह-शाम शहद चटाने से बालकों को यह रोग नहीं होता।

3. मोरपंख की भस्म 1 ग्राम, काली मिर्च का चूर्ण 1 ग्राम, इनको घोंटकर छः मात्रा बनायें। जरूरत के अनुसार दिन में 1-1 मात्रा तीन-चार बार शहद से चटा दें।

4. बालरोगों में 2 ग्राम हल्दी व 1 ग्राम सेंधा नमक शहद अथवा दूध के साथ चटाने से बालक को उलटी होकर वराध में राहत मिलती है। यह प्रयोग एक वर्ष से अधिक की आयुवाले बालक पर और चिकित्सक की सलाह से ही करें।

न्यमोनिया में :- महालक्ष्मीविलासरस की आधी से एक गोली 10 से 50 मि.ली. दूध अथवा 2 से 10 ग्राम शहद अथवा अदरक के 2 से 10 मि.ली. रस के साथ देने से न्यूमोनिया में लाभ होता है।

फुन्सियाँ होने परः- 1. पीपल की छाल और ईंट पानी में एक साथ घिसकर लेप करने से फुन्सियाँ मिटती हैं।

2. हल्दी, चंदन, मुलहठी व लोध्र का पाऊडर मिलाकर या किसी एक का भी पाऊडर पानी में मिलाकर लगाने से फुन्सी मिटती हैं।

दाँत निकलने परः -1. तुलसी के पत्तों का रस शहद में मिलाकर मसूढ़े पर घिसने से बालक के दाँत बिना तकलीफ के निकल जाते हैं।

2. मुलहठी का चूर्ण मसूढ़ों पर घिसने से भी दाँत जल्दी निकलते हैं।

नेत्र रोग के लिये:- त्रिफला या मुलहठी का 5 ग्राम चूर्ण तीन घंटे से अधिक समय तक 100 मि.ली. पानी में भिगोकर फिर थोड़ा-सा उबालें व ठण्डा होने पर मोटे कपड़े से छानकर आँखों में डालें। इससे समस्त नेत्र रोगों में लाभ होता है। यह प्रतिदिन ताजा बनाकर ही प्रयोग में लें तथा सुबह का जल रात को उपयोग में न लेवें।

हिचकीः धीरे-धीरे प्याज सूँघने से लाभ होता है।

पेट के कीड़े:- 1. पेट में कृमि होने पर शिशु के गले में छिले हुए लहसुन की कलियों का अथवा तुलसी का हार बनाकर पहनाने से आँतों के कीड़ों से शिशु की रक्षा होती है।

2. सुबह खाली पेट एक ग्राम गुड़ खिलाकर उसके पाँच मिनट बाद बच्चे को दो काली मिर्च के चूर्ण में वायविडंग का दो ग्राम चूर्ण मिलाकर खिलाने से पेट के कृमि में लाभ होता है। यह प्रयोग लगातार 15 दिन तक करें तथा एक सप्ताह बंद करके आवश्यकता पड़ने पर पुनः आरंभ करें।

3. पपीते के 11 बीज सुबह खाली पेट सात दिन तक बच्चे को खिलायें। इससे पेट के कृमि मिटते हैं। यह प्रयोग वर्ष में एक ही बार करें।

4. पेट में कृमि होने पर उन्हें नियमित सुबह-शाम दो-दो चम्मच अनार का रस पिलाने से कृमि नष्ट हो जाते हैं।

5. गर्म पानी के साथ करेले के पत्तों का रस देने से कृमि का नाश होता है।

6. नीम के पत्तों का 10 ग्राम रस 10 ग्राम शहद मिलाकर पिलाने से उदरकृमि नष्ट हो जाते हैं।

7. तीन से पाँच साल के बच्चों को आधा ग्राम अजवायन के चूर्ण को समभाग गुड़ में मिलाकर गोली बनाकर दिन में तीन बार खिलाने से लाभ होता है।

8. चंदन, हल्दी, मुलहठी या दारुहल्दी का चूर्ण भुरभराएँ।

9. मुलहठी का चूर्ण या फुलाया हुआ सुहागा मुँह में भुरभुराएँ या उसके गर्म पानी से कुल्ले करवायें। साथ में 1 से 2 ग्राम त्रिफला चूर्ण देने से लाभ होता है।

मुँह से लार निकलना:- कफ की अधिकता एवं पेट में कीड़े होने की वजह से मुँह से लार निकलती है। इसलिए दूध, दही, मीठी चीजें, केले, चीकू, आइसक्रीम, चॉकलेट आदि न खिलायें। अदरक एवं तुलसी का रस पिलायें। कुबेराक्ष चूर्ण या ‘संतकृपा चूर्ण’ खिलायें।

तुतलापनः -1. सूखे आँवले के 1 से 2 ग्राम चूर्ण को गाय के घी के साथ मिलाकर चाटने से थोड़े ही दिनों में तुतलापन दूर हो जाता है।

2. दो रत्ती शंखभस्म दिन में दो बार शहद के साथ चटायें तथा छोटा शंख गले में बाँधें एवं रात्रि को एक बड़े शंख में पानी भरकर सुबह वही पानी पिलायें।

3. बारीक भुनी हुई फिटकरी मुख में रखकर सो जाया करें। एक मास के निरन्तर सेवन से तुतलापन दूर हो जायेगा।

यह प्रयोग साथ में करवायें- अन्तःकुंभक करवाकर, होंठ बंद करके, सिर हिलाते हुए ‘ॐ…’ का गुंजन कंठ में ही करवाने से तुतलेपन में लाभ होता है।

शैयापर मूत्र (Enuresis)- सोने से पूर्व ठण्डे पानी से हाथ पैर धुलायें।

औषधीय प्रयोगः- सोंठ, काली मिर्च, बड़ी पीपर, बडी इलायची, एवं सेंधा नमक प्रत्येक का 1-1 ग्राम का मिश्रण 5 से 10 ग्राम शहद के साथ देने से अथवा काले तिल एवं खसखस समान मात्रा में मिलाकर 1-1 चम्मच चबाकर खिलाने एवं पानी पिलाने से लाभ होता है। साथ में पेट के कृमि की चिकित्सा भी करें।

दमा (श्वास फूलना):- बच्चे के पैर के तलवे के नीचे थोड़ी लहसुन की कलियों को छीलकर थोड़ी देर रखें, एवं ऊपर से ऊन के गर्म मोजे पहना दें। ऐसा करने से दमा धीरे-धीरे मिट जाता है। साथ में 10 से 20 मि.ली. अदरक एवं 5 से 10 मि.ली. तुलसी का रस दें।

सिर में दर्द:- अरनी के फूल सुँघाने से अथवा अरण्डी के तेल को थोड़ा सा गर्म करके नाक में 1-1 बूँद डालने से बच्चों के सिरदर्द में लाभ होता है।

बालकों के शरीर पुष्टि के लिए:- 1. तुलसी के पत्तों का 10 बूँद रस पानी में मिलाकर रोज पिलाने से स्नायु एवं हड्डियाँ मजबूत होती हैं।

2. शुद्ध घी में बना हुआ हलुआ खिलाने से शरीर पुष्ट होता है।

मिट्टी खाने की आदत होने परः- बालक की मिट्टी खाने की आदत को छुड़ाने के लिए पके हुए केलों को शहद के साथ खिलायें।

स्मरणशक्ति बढ़ाने के लिए:-  1. तुलसी के पत्तों का 5 से 20 मि.ली. रस पीने से स्मरणशक्ति बढ़ती है।

2. पढ़ने के बाद भी याद न रहता हो सुबह एवं रात्रि को दो तीन महीने तक 1 से 2 ग्राम ब्राह्मी तथा शंखपुष्पी लेने से लाभ होता है।

3. पांच‌ से 10 ग्राम शहद के साथ 1 से 2 ग्राम भांगरा चूर्ण अथवा एक से दो ग्राम शंखावली के साथ उतना ही आँवला चूर्ण खाने से स्मरणशक्ति बढ़ती है।

4. बदाम की गिरी, चारोली एवं खसखस को बारीक पीसकर, दूध में उबालकर, खीर बनाकर उसमें गाय का घी एवं मिश्री डालकर पीने से दिमाग पुष्ट होता है।

5. दस ग्राम सौंफ को अधकूटी करके 100 ग्राम पानी में खूब उबालें। 25 ग्राम पानी शेष रहने पर उसमें 100 ग्राम दूध, 1 चम्मच शक्कर एवं एक चम्मच घी मिलाकर सुबह-शाम पियें। घी न हो तो एक बादाम पीसकर डालें। इससे दिमाग की शक्ति बढ़ती है।

बच्चे को नींद न आये तब :- 1. बालक को रोना बंद न होता हो तो जायफल पानी में घिसकर उसके ललाट पर लगाने से बालक शांति से सो जायेगा।

2. प्याज के रस की 5 बूँद को शहद में मिलाकर चाटने से बालक प्रगाढ़ नींद लेता है।

स्रोत :- आरोग्य निधि पुस्तक।

घर का वैद्य

Dr.R.B.Dhawan

इस लेख में आपके लिए कुछ खास स्वास्थ्यप्रद घरेलू टोटके लिख रहा हूं, यह टोटके कोई नए टोटके नहीं हैं, यह टोटके ग्रामीण क्षेत्रों में हमेशा आजमाए जाते रहे हैं, ग्रामीण अनुभवियों से संकलित करके आपके लिये प्रस्तुत हैं:-

पानी में गुड डालिए, बीत जाए जब रात! 

सुबह छानकर पीजिए, अच्छे हों हालात!!

धनिया की पत्ती मसल, बूंद नैन में डार!

दुखती अँखियां ठीक हों, पल लागे दो-चार!!

ऊर्जा मिलती है बहुत, पिएं गुनगुना नीर!

कब्ज खतम हो पेट की, मिट जाए हर पीर!!

प्रातः काल पानी पिएं, घूंट-घूंट कर आप!

बस दो-तीन गिलास है, हर औषधि का बाप!!

ठंडा पानी पियो मत, करता क्रूर प्रहार!

करे हाजमे का सदा, ये तो बंटाढार!!

भोजन करें धरती पर, अल्थी पल्थी मार!

चबा-चबा कर खाइए, वैद्य न झांकें द्वार!!

प्रातः काल फल रस लो, दुपहर लस्सी-छांछ!

सदा रात में दूध पी, सभी रोग का नाश!!

प्रातः दोपहर लीजिये, जब नियमित आहार!

तीस मिनट की नींद लो, रोग न आवें द्वार!!

भोजन करके रात में, घूमें कदम हजार!

डाक्टर, ओझा, वैद्य का , लुट जाए व्यापार !!

घूट-घूट पानी पियो, रह तनाव से दूर!

एसिडिटी, या मोटापा, होवें चकनाचूर!!

अर्थराइटिस या हार्निया, अपेंडिक्स का त्रास!

पानी पीजै बैठकर, कभी न आवें पास!!

रक्तचाप बढने लगे, तब मत सोचो भाय!

सौगंध राम की खाइ के, तुरत छोड दो चाय!!

सुबह खाइये कुवंर-सा, दुपहर यथा नरेश!

भोजन लीजै रात में, जैसे रंक सुरेश!!

देर रात तक जागना, रोगों का जंजाल!

अपच,आंख के रोग सँग, तन भी रहे निढाल!!

दर्द, घाव, फोडा, चुभन, सूजन, चोट पिराइ!

बीस मिनट चुंबक धरौ, पिरवा जाइ हेराइ!!

सत्तर रोगों कोे करे, चूना हमसे दूर!

दूर करे ये बांझपन, सुस्ती अपच हुजूर!

भोजन करके जोहिए, केवल घंटा डेढ!

पानी इसके बाद पी, ये औषधि का पेड!!

अलसी, तिल, नारियल, घी सरसों का तेल!

यही खाइए नहीं तो, हार्ट समझिए फेल!

पहला स्थान सेंधा नमक, पहाड़ी नमक सु जान!

श्वेत नमक है सागरी, ये है जहर समान!!

अल्यूमिन के पात्र का, करता है जो उपयोग!

आमंत्रित करता सदा, वह अडतालीस रोग!!

फल या मीठा खाइके, तुरत न पीजै नीर!

ये सब छोटी आंत में, बनते विषधर तीर!!

चोकर खाने से सदा, बढती तन की शक्ति!

गेहूँ मोटा पीसिए, दिल में बढे विरक्ति!!

रोज मुलहठी चूसिए, कफ बाहर आ जाय!

बने सुरीला कंठ भी, सबको लगत सुहाय!!

भोजन करके खाइए, सौंफ, गुड, अजवान!

पत्थर भी पच जायगा, जानै सकल जहान!!

लौकी का रस पीजिए, चोकर युक्त पिसान!

तुलसी, गुड, सेंधा नमक, हृदय रोग निदान!!

चैत्र माह में नीम की पत्ती हर दिन खावे !

ज्वर, डेंगू या मलेरिया, बारह मील भगावे !!

सौ वर्षों तक वह जिए, लेते नाक से सांस!

अल्पकाल जीवें, करें, मुंह से श्वासोच्छ्वास!!

सितम, गर्म जल से कभी, करिये मत स्नान!

घट जाता है आत्मबल, नैनन को नुकसान!!

हृदय रोग से आपको, बचना है श्रीमान!

सुरा, चाय या कोल्ड्रिंक, का मत करिए पान!!

अगर नहावें गरम जल, तन-मन हो कमजोर!

नयन ज्योति कमजोर हो, शक्ति घटे चहुंओर!!

तुलसी का पत्ता करें, यदि हरदम उपयोग!

मिट जाते हर उम्र में,तन में सारे रोग!!